कितनी ही बाते थी जो हवा हो गयी..!

आवाज़ों के पहाड़ों से... ख़ामोशी की खाई तक उतरते-उतरते... कितनी ही बाते थी जो हवा हो गयी..! वो बातें जिन्हे मुकम्मल होना चाहिए था, उनका अधूरा रह जाना ऐसा था जैसे समय के घाट पर लोगों की भीड़ में तेरा खो जाना..! मुसाफ़िर मुसाफ़त में भटक जाए तो अच्छा नहीं होता! ये इतनी सब बाते … Continue reading कितनी ही बाते थी जो हवा हो गयी..!

Advertisements

तुम्हें कब पड़ी है?

तुम्हें कब पड़ी है? जो तुम जान सको.. दर्द का होना क्या है? बात-बेबात का रोना क्या है? साँस की ज़ुबां क्या है? आँख की फ़ुगां क्या है? फूल का खिलना क्या है? किसी से किसी का मिलना क्या है? ख़्वाब की कीमत क्या है? ज़ेब की हक़ीकत क्या है? तुम्हें कब पड़ी है.. तुम्हें … Continue reading तुम्हें कब पड़ी है?

देखता हूँ..✍🏻

देखता हूँ हक़ीकत कि ख़्वाब देखता हूँ? टूटी टहनी पर खिला गुलाब देखता हूँ..! वो ख़्वाब जिनको देखा नहीं अब तक मैंने वो उन्हीं ख़्वाबों को देखे ये ख़्वाब देखता हूँ... ये दिल्लगी आवारा न बना दे मुझको.. ज़रा फ़ुर्सत से इश़्क का निसाब देखता हूँ.. लम्हे घटते हैं मगर यादें बढ़ी जातीं हैं वक़्त … Continue reading देखता हूँ..✍🏻

शब्द फ़ूल हैं..

रिश्ते जोड़े,बाँटे भी.. शब्द फ़ूल है काँटे भी.. बात एक ही कहते सुनते... बीते दिन भी, रातें भी... खुशी समेटे चेहरे पर.. आँखों आँसू लाते भी.. दोनों लगभग एक से है.. बातें तेरी, यादें भी.. गिरता झरना, बहती नदियाँ... सागर के सन्नाटे भी... ये भी तो होता है अक्सर, टूटे ज़िस्म भी, साँसे भी.. अक्ल … Continue reading शब्द फ़ूल हैं..

नज़्म-नज़्म सा…

इक दिल मेहरम-ए-राज़ था... ..कहूँ उसकी क्या मैं दास्तां... चली ऐसी हवा कि वो बुझ गया.. बन राख़ फिज़ा में बिखर गया.. किताब-ए-ज़िंदगी के सफ़्हों पे वो... हर्फ़-हर्फ़ उकर गया.. पढ़ो ज़रा.. कहानी का किरदार था, वो शख़्स जो इसका यार था... आसमान की चाह में... या कि रस्म-ओ-राह में... रास्ता बदल गया... सुनो मगर.. … Continue reading नज़्म-नज़्म सा…

कलाकारी..!

पेशतर कुछ ज़िंदगी तुझसे कलाकारी आ गयी.. ऐसे निबाह करी ख़ुद से कि अदाकारी आ गयी..! मुंतज़िर नहीं हम तेरे, न तेरी ख़्वाहिश हमें... वक़्त की फ़िर क्यूं ये हिस्से बेलदारी आ गयी..! सीखना है अब ये कैसे करना है किसका हिसाब, मेरे जिम्मे में ये कैसी सूबेदारी आ गयी..! ज़िक्र छिड़ा महफिल में तेरा, … Continue reading कलाकारी..!